गणित के फॉर्मूला याद करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?


इसमे सबसे बडी बाधा है हमारी दिमागके बारेमे गलतफहमी | ज्यादातर लोग आजकल मेमरी उपकरण उपयोग मे लाते है | इसलिये यह गलतफहमी बढ रही है | हम समझते है मगज मे हमारी मेमरीका कार्य इन्ही उपकरनोंजैसा है | लेकीन नही | हमारा दिमाग निरुपयोगी बातोंको भूलानेपर जादा जोर देता है | उपयोगिता के आधारपर चलनेवाली यह कार्यप्रणाली है | इसलिये परीक्षाकी उपयोगिता आपको सचमे मालूम है तो दिमाग आपके पक्ष मे काम करेगा वरना नही | सिर्फ डर के कारण या फिर मा कहती है इसलिये जो exam दे रहा है उसको याददाष्त की समस्या आती है |





फोर्मुला शब्द मे फॉर्म शब्द है | फोर्मुलाका फॉर्म आपको याद रखना होगा | मतलब उसका स्वरूप| तभी आप उसका उपयोग कर सकते है |





एक उदाहरण देता हुं| यह फोर्मुला देखिये -









अब आप इसे इमेज की स्वरूप मे याद रखते है जब आप तैय्यारी करते है | लेकीन क्या आपको यह मालूम है की x क्या है, a,b, और c क्या है? मतलब आपको पता है की यह फॉर्म्युला क्या बयां करता है? अगर नही तो यह आपकी दिमागमे कैसे बैठेगा? दिमाग को सुखी जानकारी रखनेके लिये निसर्गने नही बनाया है | दिमागको उसकी उपयुक्तताका महत्व पता होना बहोत जरुरी है | वरना वह ऐसी सारी जानकारी मिटानेकी कोशिश हमेशा करता रहता है | क्योंकी दिमाग शरीर और उसकी देखभाल, उसकी सुरक्षा इसके लिये बना है | गणित के लिये नही | इसलिये उसे हमे यह बताना जरुरी है यह जानकारी क्या है और उसको कैसे उपयोगमे लाना है | यही सच है | मैने बचपनसे ऐसेही गणित सिखा है, जो मेरी मा मुझे पढाती थी | इसिको सब लोग मेमरी बोलते है | यही कारण होता है की गणित का पेपर लिखकर आप बाहर आये नही, कि आप सब जानकारी भूल जाते है | क्या लिखा है यह भी आपको याद नही रहता | क्योंकी आप अचेतनमे दिमागको बताते है की कबतक यह जानकारी महत्व रखती है | दिमाग तुरंत उसे मिटाने मे जुड जाता है |





सबक ये है, की गणित जितना पोर्शन आप तैय्यारी करोगे, वह अच्छी, पुरी समझ के साथ करो| सब याद रहता है | आप चाहेंगे तोभी भूलेंगे नही, क्योंकी आपको इसका रिवार्ड मिलता है जो दिमाग हमेशा याद रखता है | गणित यश की सीढी स्वरूप है |





Source: Quora